पाकिस्तान को गृहमंत्री अमित शाह चेतावनी देते हुए कहा कश्मीर में आतंकवाद को बंद करे


गृहमंत्री अमित शाह ने पाकिस्तान को चेतावनी देते हुए कहा है कि वह कश्मीर में आतंकवाद को बंद करे, अन्यथा हमारे जवाब के लिए तैयार रहे। पूरी दुनिया को पता है कि पड़ोसी देश पाकिस्तान हमारे पूरे देश में आतंकवाद फैलाने का षड्यंत्र करता रहा है। यह भी तय है कि हम उसे सफल नहीं होंगे। अमित शाह ने कहा कि भारत की प्रतिक्रिया पाकिस्तान के क्रियाकलापों पर आधारित है। अगर वह शांति चाहता है तो अपने यहां आतंकवाद को खत्म करे। वह आतंकवाद फैलाना चाहता है तो हम आतंकवाद को खत्म करने की दिशा में माकूल जवाब देंगे। शाह ने स्पष्ट किया कि हम किसी से कोई झगड़ा नहीं चाहते, किंतु भारत की सीमाओं के अंदर किसी भी संस्था को आतंकवाद बढ़ाने की छूट नहीं दी जाएगी।


बुधवार को एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि धारा 370 हटाने के बाद जम्मू कश्मीर में अतिरिक्त सुरक्षा बलों की तैनाती की गई थी। अब धीरे-धीरे उन्हें हटा लिया गया है। उनका कहना था कि कश्मीर में अनुच्छेद 370 और आतंकवाद का चोली-दामन का रिश्ता था। पूरी दुनिया को पता है कि हमारा पड़ोसी देश पाकिस्तान आतंकवाद फैलाने का षड्यंत्र करता रहा है। वह देश के अन्य हिस्सों में भी आतंकवाद फैलाना चाहता है, मगर वह उसमें सफल नहीं हो पा रहा।

कश्मीर में एक समय तक वह सफल हुआ, उसका कारण था कि वहां अनुच्छेद 370 और 35 ए के आधार पर स्थानीय लोगों को गुमराह किया गया। वहां के युवाओं के हाथ में हथियार पकड़ा दिए गए। अनुच्छेद 370 को समाप्त कर पाकिस्तान के दुष्प्रचार को खत्म करना आवश्यक था।पीएम नरेंद्र मोदी ने आतंकवाद को खत्म करने की अच्छी शुरुआत की है। शाह ने कहा कि आज कश्मीर में पत्थरबाजी की घटनाओं में बहुत कमी आई है। 

जनसंघ और भारतीय जनता पार्टी का पहला एजेंडा था कि अनुच्छेद 370 और 35ए देश की सुरक्षा के लिए ठीक नहीं थे। एक देश में दो संविधान, दो निशान और दो प्रधान नहीं होने चाहिए।यह हमारा पहले से संकल्प था। भारतीय जनता पार्टी के हर कार्यकर्ता और देश के बहुत से लोगों की इच्छा थी कि अनुच्छेद 370 हटना चाहिए।