प्रतियोगी परीक्षा पास गिरोह का भंडाफोड़, सरगना समेत तीन लोग गिरफ्तार


 फर्जी परीक्षार्थी के जरिए प्रतियोगी परीक्षा पास कराने वाले गिरोह के सरगना सहित तीन आरोपियों को स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) जयपुर की टीम ने गिरफ्तार किया है। आरोपियों से पूछताछ में पता चला कि वह बिहार से फर्जी परीक्षार्थी बुलाकर उनसे दो लाख रुपए में एसएससी परीक्षाओं गड़बड़ करा चुके हैं।
एडीजी (एसओजी/एटीएस)अनिल पालीवाल ने बताया कि मुखबिर से सूचना मिली की एसएससी की ओर से आयोजित मल्टी टास्किंग नॉन टैक्निकल स्टॉफ प्रारंभिक परीक्षा में एक गिरोह असली छात्रों के स्थान पर फर्जी छात्रों को बैठाकर परीक्षा दिलवा रहा है।


उक्त सूचना पर एसओजी टीम की ओर से राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय द्वारकापुरी शास्त्री नगर, जयपुर से तीन लोगों को दबोचा। पकड़े गए गिरोह का सरगना जसवन्त कुमार पुत्र जगदीश प्रसाद उकडुन्छ थाना मण्डावर महुआ जिला दौसा, उसके साथी देशराज पुत्र रामलाल निवासी तलछेरा नदबई जिला भरतपुर और गिरधारी सिंह पुत्र रघुवीर सिंह निवासी दिखनादा मौहल्ला फांस भूखरडी चूरू से पूछताछ की गई। पूछताछ में सरगना जसवंत कुमार ने बताया कि वह पिछले काफी समय से एसएससी की विभिन्न भर्ती परीक्षाओं में असली परीक्षार्थी के स्थान पर फर्जी परीक्षार्थियों को बैठाकर परीक्षा दिलवाने का काम कर रहा है। इस कार्य के लिए वह प्रति परीक्षार्थी 2 से 5 लाख रुपए वसूल कर रहा है।


फर्जी परीक्षार्थियों के लिए अपने गिरोह के अन्य सदस्य के मार्फत बिहार के विद्यार्थियों से स पर्क करता था और उनको 50 हजार से 2 लाख रुपए तक देकर फर्जी परीक्षार्थी के तौर पर परीक्षा दिलवाने का कार्य कर रहा था। इससे पहले भी वह एसएससी जीडी कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में भी फर्जी परीक्षार्थियों के जरिए परीक्षा दिलवा चुका है। एसएससी की वर्तमान प्रारंभिक परीक्षा में बिहारी विद्यार्थियों से परीक्षा दिलवाई गई थी, जिनसे पैसों का विवाद हो जाने के कारण रविवार को मु य परीक्षा में जसवंत और उसके साथी देशराज गुर्जर आए थे। आरोपी देशराज गुर्जर पहले ही कांस्टेबल जीडी परीक्षा में सफल हो चुका है, लेकिन जसवंत के कहने पर वह फर्जी परीक्षार्थी के तौर पर एग्जाम देने आया था। एसओजी टीम इन आरोपियों से कड़ी पूछताछ कर गिरोह के पूरे नेटवर्क का गहनता से पता लगा रही है।