युवा करते हैं ड्राइविंग के दौरान सबसे ज्यादा स्मार्टफोन का इस्तेमाल
 


 

ड्राइविंग के दौरान फोन पर बात करते हए युवाओं का दिखाई देना बेहद आम है। यहां तक कि युवाओं को इस बात की भी परवाह नहीं होती है कि उनकी जरा सी चूक किसी की जान पर भी भारी पड़ सकती है। इसकी वजह है कि हमारे देश में ड्राइविंग को जिम्मेदारी नहीं बल्कि शौक माना जाता है। वहीं अब एक स्टडी में खुलासा हुआ है कि युवा ड्राइविंग के दौरान स्मार्टफोन इस्तेमाल न करने की कानूनी चेतावनियों की अनेदखी करते हैं।

 


503 युवा ड्राइवर्स के बीच सर्वे



क्वींसलैंड यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी के शोधार्थियों ने अपने शोध में खुलासा किया है कि प्रत्येक छह में से एक युवा ड्राइवर ड्राइविंग के दौरान स्नैपचैट का इस्तेमाल करते हैं। क्वींसलैंड में स्नैपचैट एक बड़े संभावित खतरे के तौर पर उभर रहा है। रिसर्चर्स ने क्वींसलैंड में 17 साल से 25 साल के बीच 503 युवा ड्राइवर्स के बीच एक सर्वे किया, जो सड़क पर स्नैपचैट इस्तेमाल करते थे।

 




ड्राइविंग के दौरान मोबाइल फोन पर स्नैपचैट देखते हैं


सर्वे के दौरान उन्होंने पाया कि 16 फीसदी युवाओं ने माना कि वे ड्राइविंग के दौरान मोबाइल फोन पर स्नैपचैट देखते हैं। वहीं उनमें से कुछ ने माना कि वे केवल देखने के लिए या फिर दूसरे लोगों के संदेशों का जवाब देने के लिए स्नैपचैट प्रयोग करते हैं। वहीं सर्वे में शामिल 15 फीसदी ने माना कि वाहन को कंट्रोल करने के दौरान ही उन्होंने स्नैपचैट पर फोन से फोटो और वीडियोज भेजे हैं।
 



तेज ड्राइविंग के दौरान भी स्नैपचैट चेक किया



एक रिसर्चर का कहना है कि 15 फीसदी से ज्यादा युवाओं ने माना कि ड्राइविंग के दौरान उन्होंने दूसरे लोगों को वीडियो या फोटो शेयर करने को प्राथमिकता दी। जबकि ज्यादातर 71 फीसदी यूजर्स का कहना था कि उन्होंने अधिकांश तौर पर रेडलाइट पर स्नैपचैट देखा, वहीं बाकियों ने माना कि उन्होंने तेज ड्राइविंग के दौरान भी स्नैपचैट चेक किया है।




आस्ट्रेलिया में 60 लाख से ज्यादा स्नैपचैट यूजर्स



रिसर्च में यह बात भी सामने आई कि सर्वे में शामिल 84 फीसदी युवा ड्राइवर्स का कहना था कि उन्होंने ड्राइविंग के दौरान कभी स्नैपचैट इस्तेमाल नहीं किया, केवल 12 फीसदी ने ही इस आदत पर सहमति जताई। आस्ट्रेलिया में 60 लाख से ज्यादा स्नैपचैट यूजर्स हैं, जिनमें से 20 लाख यूजर्स की उम्र 18 साल से 24 साल के बीच है। वहीं युवा महिलाओं के मुकाबले युवा पुरुष ज्यादा इस्तेमाल करते हैं। सर्वे में यह भी सामने आया कि कई यूजर्स का मानना था कि रेडलाइट पर स्नैपचैट देखना ज्यादा सुरक्षित है।




आस्ट्रेलिया में दुनिया की पहली मोबाइल फोन डिटेक्शन टेक्नोलॉजी


वहीं कई ने माना कि उन्होंने कभी इस बारे में सोचा ही नहीं कि उन्हें फोन इस्तेमाल करते हुए पुलिस पकड़ लेगी। जबकि इनमें से कई ड्राइवर जानते थे कि आस्ट्रेलिया में दुनिया की पहली मोबाइल फोन डिटेक्शन टेक्नोलॉजी लगी हुई है, जिसे खास ऊंचाई और एंगल पर लगाया गया, ताकि विंडस्क्रीन के भीतर से फोन इस्तेमाल करने वालों की फोटो खींची जा सके।