ठंड में फर्श पर बैठकर पढ़ रहे मासूम :सरकारी स्कूल का हाल

 

 

 

 

 

 

 

दिल्ली एनसीआर में ठंड हर रोज पिछले रिकॉर्ड तोड़ रही है। पारा इतना गिर चुका है कि ठंड से बचने के हर उपाय फेल हो रहे हैं। अधिकतर स्कूल-कॉलेजों को एहतियातन बंद कर दिया गया है। वहीं दूसरी ओर ऐसी जानलेवा ठंड में नोएडा के एक सरकारी स्कूल के बच्चों का हाल देखकर कोई भी दंग रह जाए। 
 

उत्तर प्रदेश सरकार शिक्षा के नाम पर करोड़ों रुपये खर्च कर रही है, लेकिन नोएडा में शिक्षा विभाग की लापरवाही से कई स्कूलों में छोटे-छोटे बच्चे इस सर्द मौसम में फर्श पर बैठकर पढ़ाई करने को मजबूर हैं। अभी तक कुछ बच्चों को स्वेटर भी नहीं मिले हैं। स्कूल में बच्चों के बैठने के लिए बेंच की व्यवस्था भी नहीं है। 

नोएडा सेक्टर-62 स्थित नवादा के सरकारी स्कूल में शनिवार को बच्चों के लिए बेंच तो दूर इस मौसम में फर्श में बिछाने के लिए लिए टाट-पट्टी तक नहीं थी। फर्श पर बैठकर बच्चे शिक्षा ग्रहण कर रहे थे। इसके बाद भी शिक्षा विभाग कोई ध्यान नहीं दे रहा है। 

'डीएम स्कूल बंद करने की करें घोषणा'


वहीं नोएडा विलेज रेजिडेंट्स एसोसिएशन ने डीएम को पत्र लिखकर मांग की है कि स्कूल में बच्चों की छुट्टी घोषित की जाए। कड़ाके की ठंड के बावजूद विद्यालय जाने से बच्चे बीमार पड़ रहे हैं। ज्यादा परेशानी प्राइमरी कक्षाओं में पढ़ने वाले छोटे बच्चों को हो रही है। नोवरा अध्यक्ष रंजन तोमर और उपाध्यक्ष अजय चौहान का कहना है कि बच्चों को इस ठंड से बचाना हम सभी की जिम्मेदारी है। 

इसके अलावा फोनरवा और डीडीआरडब्ल्यूए ने भी स्कूलों में अवकाश की मांग की है। वहीं फोनरवा के महासचिव केके जैन ने कहा कि ठंड ज्यादा होने से छोटे बच्चों को परेशानी हो रही है। सरकारी स्कूल में पढ़ते वाले बच्चों को जो स्वेटर दिए गए हैं उसकी क्वालिटी ठीक नहीं है, इसलिए स्कूल में अवकाश दे देना चाहिए