1 जनवरी 2020 को अब तक के सबसे ज्यादा 67,385 बच्चे पैदा हुए भारत में , बना नया रिकॉर्ड



 एक जनवरी 2020 को दुनियाभर में जितने बच्चे पैदा हुए उनसे से 17 फीसदी बच्चे भारत में हुए। यूनिसेफ के मुताबिक, साल 2020 के पहले दिन दुनियाभर में 3,92,078 बच्चे पैदा हुए उनमें से 67,385 बच्चों की डिलीवरी भारत में हुई। सर्वाधिक बच्चों के जन्म वाले देशों में भारत सबसे ऊपर है। इसके बाद चीन, नाइजीरिया, पाकिस्तान, इंडोनेशिया, अमेरिका, द डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कॉन्गो और इथियोपिया हैं। यूनिसेफ ने साल के पहले दिन जन्म लेने वाले बच्चों के संभावित आंकड़े जारी किए हैं, 1 जनवरी को दुनियाभर में जन्म लेने वाले कुल बच्चों की 50 फीसदी डिलीवरी इन्हीं आठ देशों में हुई। 


कहां कितने बच्चों का जन्म













































1.भारत67,385 
2.चीन46,299
3.नाइजीरिया26,039
4.पाकिस्तान16,787
5.इंडोनेशिया13,020
6.अमेरिका10,452
7.द डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कॉन्गो10,247
8.इथियोपिया8,493

साल का पहला बच्चा फिजी में और अंतिम अमेरिका में
यूनिसेफ के मुताबिक, साल 2020 के पहले बच्चे का जन्म फिजी में और अंतिम अमेरिका में हुआ। यूनिसेफ साल के पहले दिन को बेहद शुभ मानता है और इस दिन पैदा होने वाले बच्चों के जन्म को सेलिब्रेट करता है। बच्चों के लिए पहला दिन बेहद खास होता है लेकिन दुनियाभर में लाखों बच्चे जन्म के दिन से ही बीमारियों से जूझते हैं। 2018 में 25 लाख नवजातों ने जन्म के पहले महीने में ही दम तोड़ दिया। इनमें से ज्यादातर बच्चे प्री-मैच्योर बर्थ, डिलीवरी के दौरान कॉम्पिकेशन और संक्रमण से जूझ रहे थे।


तीन साल में घटा जान का जोखिम
पिछले तीन दशकों में बच्चों का सर्वाइवल रेट बढ़ा है लेकिन बेहद धीमी गति से। यूनिसेफ के आंकड़ों के मुताबिक, 5 साल तक की उम्र के बच्चों में जान का जोखिम घटकर आधा रह गया है। लेकिन नवजातों के लिए स्थिति बहुत ज्यादा संतोषजनक नहीं है। 2018 में 0-5 साल तक के बच्चों में 47 फीसदी ने जन्म के पहले महीने में दम तोड़ दिया। जबकि यह आंकड़ा 1990 में 40 फीसदी था।


यूनिसेफ की कार्यकारी निदेशक हेनरीटा फोरे के मुताबिक, नए साल की शुरुआत और एक नया दशक हमारे भविष्य के लिए ही नहीं बल्कि आने वाले बच्चों के भविष्य के लिए आशाओं और आकांक्षाओं को प्रतिबिंबित करने का एक अवसर है।