AAP में शोएब इकबाल के शामिल होने पर भड़की कांग्रेस


दिल्ली में विधानसभा चुनाव के लिए तारीखों का ऐलान हो चुका है. सूबे की 70 विधानसभा सीटों पर 8 फरवरी को वोट डाले जाएंगे और नतीजों का ऐलान 11 फरवरी को होगा. मतदान की तिथि करीब आते ही नेताओं के पाला बदलने के सिलसिला भी शुरू हो गया है. पूर्व विधायक शोएब इकबाल ने गुरुवार को कांग्रेस के हाथ का साथ छोड़कर आम आदमी पार्टी (AAP) का दामन थाम लिया.


चुनाव में असर न पड़ने का दावा


शोएब इकबाल के आप में शामिल होने पर कांग्रेस ने तीखी प्रतिक्रिया दी है. दिल्ली कांग्रेस के प्रवक्ता मुकेश शर्मा ने कहा है कि चंद घंटे पहले तक एनआरसी और अन्य मुद्दों पर केजरीवाल को कोसने वाले शोएब इकबाल ने पार्टी टिकट कटने के अंदेशे के चलते कांग्रेस छोड़ी है. उन्होंने दावा किया कि इसका विधानसभा चुनाव के नतीजों पर कोई असर नहीं पड़ेगा. शर्मा ने कहा कि इकबाल को इस बात की जानकारी मिल चुकी थी कि पार्टी उन्हें स्थानीय जनता और पार्टी कार्यकर्ताओं के विरोध को देखते हुए विधानसभा चुनाव में टिकट नहीं देने का मन बना रही है. इसीलिए उन्होंने आम आदमी पार्टी में शामिल होने का निर्णय किया.


दिल्ली कांग्रेस के प्रवक्ता ने इकबाल की आलोचना करते हुए कहा कि नागरिकता संशोधन विधेयक और अन्य मुद्दों पर आप में शामिल होने से चंद घंटे पहले तक पानी पी- पीकर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को कोस रहे थे. अचानक उसी पार्टी में शामिल होने निर्णय सबको समझ आ रहा है, जिसे वह कोस रहे थे. उन्होंने कहा कि इकबाल को जैसे ही टिकट के लिए मना किया जाता है, वह दूसरे दल का रास्ता पकड़ लेते हैं. वह साल 1993 में जनता दल में थे और बाद में अन्य दलों में. इकबाल ने इस बार भी वही किया है.