सांसद ओवैसी ने कहा कि इमरान खान को भारतीय मुसलमानों की चिंता करने के बजाय अपने देश स्थिति के बारे में चिंता करे


ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल-मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के नेता असदुद्दीन ओवैसी ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को बांग्लादेश से सात साल पुराने हिंसा के वीडियो को हटाने के लिए फटकार लगाते हुए जमकर खरी-खोटी सुनाई है। बता दें कि पाक पीएम ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो पोस्ट कर भारत में मुस्लिमों की स्थिति पर तंज कसा था।


हैदराबाद से सांसद ओवैसी ने कहा कि इमरान खान को भारतीय मुसलमानों की चिंता करने के बजाय अपने देश पाकिस्तान में मुस्लिमों की स्थिति के बारे में चिंता करनी चाहिए। बता दें कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने बांग्लादेश के एक वीडियो को पोस्ट कर उसके भारत का होने का दावा किया था।

ओवैसी ने शनिवार को एक कार्यक्रम में कहा कि खान साहब आप अपने ही देश की चिंता करें। हमने जिन्ना के गलत सिद्धांतों को खारिज कर दिया है, हम गर्व से भारतीय मुसलमान हैं और आगे भी रहेंगे। हालांकि, इस दौरान ओवैसी ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी निशाना साधा।

उन्होंने चुनौती देते हुए घोषण की कि केंद्र में मोदी सरकार के रहते हुए देश में एनआरसी को लागू नहीं होने दिया जाएगा। उन्होंने नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) और एनआरसी मुद्दे के विरोध में कांग्रेस से एआईएमआईएम और अन्य दलों के साथ आने का भी आग्रह किया।

बता दें कि पाकिस्तानी पीएम द्वारा साझा किया गया वीडियो डिलीट किया जा चुका है, जब उसके तथ्यों की जांच की गई तो पता चला कि वह 2013 का था। यह वीडियो बांग्लादेश में लोगों के समूह पर पुलिसिया कार्रवाई से संबंधित था। जिसे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने उत्तर प्रदेश में 'मुसलमानों के खिलाफ' पुलिस की बर्बरता के तौर पर पेश करने का प्रयास किया था।

अब हटाए जा चुके उस वीडियो में एक बिंदु पर एक पुलिसकर्मी रैपिड एक्शन बटालियन (आरएबी) की एक ढाल पकड़े दिखाई देता है। इससे पता चलता है कि यह घटना बांग्लादेश की थी। आरएबी बांग्लादेश पुलिस की विशेष अपराध विरोधी और आतंकवाद विरोधी इकाई है। इस वीडियो को पोस्ट करने के बाद पाक पीएम खान को सोशल मीडिया पर तीखी प्रतिक्रिया का सामना करना पड़ा था।