शराब माफ़ियाओं के ख़िलाफ़ ख़बरें उसी के प्रतिशोध का परिणाम अपराधियों ने गोली मार दी







पटना: बिहार के मधुबनी में  एक पत्रकार को अपराधियों ने गोली मार दी. हालांकि पत्रकार प्रदीप मंडल फ़िलहाल दरभंगा मेडिकल कॉलेज अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है और उनकी स्थिति ख़तरे से बाहर बतायी जा रही है. स्थानीय पुलिस का कहना है कि प्रदीप ने अपने अख़बार में कुछ दिनों पूर्व उच्च स्थानीय शराब माफ़ियाओं के ख़िलाफ़ ख़बरें लिखी थीं और यह घटना उसी के प्रतिशोध का परिणाम है. घटना के बाद प्रदीप ने पुलिसवालों को दो स्थानीय शराब माफ़िया अशोक मंडल और सुशील मंडल का नाम भी बताया जो उनके ऊपर इस हमले के लिए ज़िम्मेदार हैं. लेकिन इस बयान के बाद प्रदीप बेहोश हो गए थे और उन्हें तुरंत दरभंगा मेडिकल कॉलेज अस्पताल ले जाया गया. पुलिस का कहना है कि एक बार होश में आने के बाद उनसे विस्तृत रूप से बयान ले कर इस मामले के आरोपियों की गिरफ़्तारी की जाएगी.

गौरतलब है कि बिहार में इन दिनों शराब का कारोबार इतना बढ़ता जा रहा है कि इस धंधे में लगे लोग उसके बारे में ख़बर देने वाले या ख़बर करने वाले हो या उनके धंधे में चुनौती देने वाले उनकी हत्या करने से बाज़ नहीं आते हैं. कई ज़िलों में हत्या की घटना में जो हुई हैं उसके पीछे राज्य में शराबबंदी के बाद जो एक समानांतर आर्थिक व्यवस्था खड़ी हुई है उसके पीछे के लोग ही बताए जा रहे हैं. 


बिहार में नीतीश सरकार ने शराब पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा रखा है. इसके बाद से राज्य में अवैध शराब का धंधा जोरों पर है. कई जगहों पर जब्त की गई शराब की बोतलें लोग थानों से जुगाड़ करके लाते देखे गए हैं. वहीं जब इस मामले में जांच की गई तो पुलिस ने कहा दिया कि पकड़े गई शराब को चूहे पी गए.