20 सालो में ‘वर्ल्ड कप विनिंग मोमेंट’ खेलों का सबसे बेहतर लम्हा -सचिन तेंदुलकर



क्रिकेट की पिच से दूर होने के बाद भी इस खेल के भगवान माने जाने वाले सचिन तेंदुलकर का जलवा कम नहीं हुआ है। अवॉर्ड और सम्मान लगातार उनकी झोली में गिर रहे हैं। तेंदुलकर ने 'लॉरेस 20 स्पोर्टिंग मोमेंट 2000-2020' ( Laureus 20 Sporting Moment 2000-2020 ) अवॉर्ड जीता है। वहीं, दिग्गज फुटबॉलर लियोनेल मेसी और छह बार के फॉर्मूला 1 विश्व चैंपियन लुइस हैमिल्टन को संयुक्त रूप से लॉरेस वर्ल्ड स्पोर्ट्समैन ऑफ दि ईयर अवॉर्ड दिया गया।





सचिन तेंदुलकर के ‘2011 वर्ल्ड कप विनिंग मोमेंट’ को पिछले 20 साल में खेलों में सबसे बेहतर लम्हे का लॉरेस पुरस्कार मिला। सचिन ने दिग्गज टेनिस खिलाड़ी बोरिस बेकर और ऑस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर स्टीव वॉ के हाथों पुरस्कार ग्रहण किया। इस पुरस्कार के लिए पांच लम्हे नामित किए गए थे।




विजेताओं की घोषणा 17 फरवरी को बर्लिन में लॉरेस विश्व खेल पुरस्कार कार्यक्रम के दौरान की गई। उन्हें इसी साल 11 जनवरी को खेल की दुनिया में पिछले 20 साल के सबसे बेहतर लम्हों में जगह दी गई थी।




भारत की 2011 विश्व कप में जीत के संदर्भ में सचिन से जुड़े लम्हे को ‘कैरीड ऑन द शोल्डर्स ऑफ ए नेशन’ शीर्षक दिया गया है। लगभग नौ साल पहले सचिन तेंदुलकर अपने छठे वर्ल्ड कप में खेलते हुए खिताब जीतने वाली टीम के सदस्य बने थे। भारत ने महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में वर्ल्ड कप जीता था, जब उसने मुंबई में फाइनल में श्रीलंका को हराया था।




भारतीय टीम के सदस्यों ने इसके बाद सचिन तेंदुलकर को कंधे पर उठाकर मैदान का ‘लैप ऑफ ऑनर’ लगाया था और इस दौरान इस दिग्गज बल्लेबाज की आंखों से आंसू गिर रहे थे। भारत ने वर्ल्ड कप फाइनल में जीत सचिन के घरेलू मैदान मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में दर्ज की थी।