ईडी की बड़ी कार्रवाई, शाहरुख-गौरी की KKR समेत तीन कंपनियों की 70 करोड़ की संपत्ति जब्त


बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान की फिल्म जीरो फ्लॉप होने के बाद से उनके दिन कुछ ठीक नहीं चल रहे। साल 2019 में फैंस शाहरुख की फिल्म का बेसब्री से इंतजार करते रहे लेकिन उन्हें निराशा मिली। जीरो के बाद शाहरुख ने कोई फिल्म साइन नहीं की है। इस बीच अभिनेता पर एक और मुसीबत आ गई है। रोजवैली पोंजी घोटाले में शाहरुख से जुड़ी कंपनी समेत तीन कंपनियों की 70 करोड़ से अधिक की संपत्ति जब्त कर ली गई है।


ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में मल्टीपल रिसॉर्ट प्राइवेट लिमिटेड, सेंट जेवियर कॉलेज, कोलकाता और कोलकाता नाइट राइडर्स स्पोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड पर यह कार्रवाई की है। शाहरुख आईपीएल टीम कोलकाता नाइट राइडर्स के सह मालिक और निदेशक हैं। इनमें तीनों कंपनियों के बैंक खातों में 16.20 करोड़ रुपये, पश्चिम बंगाल के पूर्वी मेदिनीपुर जिले के रामनगर और महिशदल में 24 एकड़ जमीन, मुंबई के दिलकप चैंबर में एक फ्लैट, कोलकाता के ज्योति बसु नगर में एक एकड़ जमीन और रोजवैली समूह का एक होटल शामिल है।


प्रवर्तन निदेशालय का मानना है कि रोजवैली घोटाला, शारदा पोंजी घोटाले से ज्यादा बड़ा घोटाला है। रोजवैली चिटफंड घोटाले में रोजवैली ग्रुप ने लोगों से दो अलग-अलग स्कीम का लालच दिया और आम लोगों का पैसा हड़प लिया। इसके जरिए कंपनी ने लोगों से 17,520 करोड़ रूपये लिए। जिसमें से 10,850 रूपये लोगों को वापस कर दिए गए और बाकी 6670 करोड़ राशि अभी भी बकाया है।




नाइट राइडर्स स्पोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड के तहत कोलकाता नाइट राइडर्स इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की क्रिकेट टीम है और इसके निदेशकों में अभिनेता शाहरुख खान, गौरी खान के साथ-साथ जूही चावला के पति जय मेहता शामिल हैं। ईडी ने 2014 में पीएमएलए के तहत नाइट राइडर्स स्पोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड, उसके अध्यक्ष गौतम कुंडू और अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी। कुंडू को कोलकाता में एजेंसी ने 2015 में गिरफ्तार किया था।



साल 2015 में आईपीएल में कथित विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम (फेमा) के उल्लंघन के संबंध में शाहरुख खान से भी पूछताछ की गई थी। इसमें शक जताया गया कि अभिनेता ने लगभग नाइट राइडर्स स्पोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड (KRSPL) के शेयरों कम कीमत पर बेचा।