परोसी गई लंगर में उन्हें पनीर की सब्जी, रोटी और जलेबी ,की पूजा प्रियंका गांधी ने संत रविदास मंदिर में



वाराणसी. संत रविदास की 643 वी जयंती पर सिरगोवर्धन स्थित मंदिर में दर्शन करने पहुंचीं। मंदिर के गेट पर उनका स्वागत सिर पर पारंपरिक पटका (कपड़ा) बांधकर किया गया। प्रियंका ने संत रविदास की प्रतिमा पर माल्यर्पण कर परिक्रमा की। सेवादार से प्रसाद भी लिया। वहां से मंदिर के बगल में लंगर स्थल पहुंची। लंगर के प्रसाद में पनीर की सब्जी, दही, बुनियां, रोटी और जलेबी खाई। लंगर का प्रसाद लेने के बाद उन्होंने अपनी थाली को उठाकर बर्तन घर ले जाकर रखा।


पुलिस के सुरक्षा घेरे में मंदिर पहुंची प्रियंका ने लोगों का अभिवादन भी किया। काशी पहुंचने पर लाल बहादुर शास्त्री एयरपोर्ट पर कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत किया। यहां से वह सीधे सीरगोवर्धन में संत रविदास मंदिर पहुंच गईं। प्रियंका 10 जनवरी को भी रविदास मंदिर में पूजा करने आई थीं। पिछले साल फरवरी में पार्टी महासचिव बनने के बाद वे 20 मार्च को पहली बार वाराणसी आई थीं। इसके बाद 16 मई और 19 जुलाई को यहां पहुंचीं। वाराणसी से ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का लोकसभा सदस्य हैं। 2019 के चुनाव में यहां से उनके खिलाफ प्रियंका के उतरने की चर्चा थी।







ऐसा चाहूँ राज मैं, जहां मिले सबन को अन्नछोट-बड़ों सब सम बसै, रैदास रहे प्रसन्न’ जगत पितामा, साहिबे कमाल, सदगुरु श्री रविदास जी महाराज की जयंती की आप सबको लख लख बधाइयाँसंत शिरोमणि गुरु रविदास जन्म स्थान मंदिर की चौखट पर मत्था टेकने आज बनारस में रहूँगी।


 








सीएए के खिलाफ प्रदर्शन में जेल गए लोगों से मिलने पहुंची थीं प्रियंका


10 जनवरी को प्रियंका गांधी बनारस के राजघाट स्थित संत रविदास मंदिर में दर्शन करने पहुंची थीं। वहां से नाव से वे पंचगंगा घाट स्थित श्रीमठ गई थीं। उन्होंने सीएए विरोध करने के दौरान 19 दिसंबर को जेल गए लोगों से मुलाकात भी की थी। प्रियंका काशी विश्वनाथ मंदिर दर्शन भी गई थीं। 


संत रविदास मंदिर में वीआईपी



  • 21 फरवरी 2008: बसपा प्रमुख मायावती मंदिर में दर्शन पूजन को पहुंची थी। तब उन्होंने सोने की पालकी का अनावरण किया था।

  • नवंबर 2011: राहुल गांधी रविदास मंदिर में दर्शन पूजन करने गए थे, लंगर भी खाया।

  • 22 फरवरी 2016: पीएम नरेंद्र मोदी और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल भी अलग-अलग दर्शन करने पहुंचे थे।