शरजील के समर्थन में नारे लगाने वाली छात्रा पर कार्रवाई


मुंबई में शरजील इमाम के समर्थन में की गई नारेबाजी के खिलाफ पुलिस ने बड़ी कार्रवाई की है. आजाद मैदान पुलिस ने तकरीबन 50-60 लोगों के खिलाफ राजद्रोह जैसे मामले दर्ज किए हैं. इनमें एक आरोपी का नाम उर्वशी चूडावाला है जिनके खिलाफ राजद्रोह का केस दर्ज किया गया है. वह टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज में एमए (मीडिया) की छात्रा हैं. चूडावाला जेंडर भेदभाव के खिलाफ काम करने वाले संगठन TISS Queer Collective भी जुड़ी हुई हैं.


मुंबई पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि आरोपियों के खिलाफ सख्ती से जांच की जा रही है. उर्वशी चूडावाला के सोशल मीडिया पोस्ट की भी गहराई से तफ्तीश की जा रही है. पुलिस के मुताबिक, चूडावाला को पूछताछ के लिए दो बार बुलाया गया लेकिन वह हाजिर नहीं हुई. आरोपियों के खिलाफ धारा 124ए (राजद्रोह), 153बी (राष्ट्रीय अखंडता के लिए पूर्वाग्रह) और 505 (सार्वजनिक दुर्व्यवहार वाले बयान) के तहत मामले दर्ज किए गए हैं.


क्या है पूरा मामला?


मुंबई पुलिस LGBTQ परेड में शनिवार को शरजील इमाम के समर्थन में नारे लगाने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने में जुटी हुई है. क्विर आज़ादी मूवमेंट (QAM) के आयोजकों ने पुलिस को बताया कि जिस ग्रुप ने ऐसे नारे लगाए, वो उसे नहीं जानते. आयोजकों के बयान रिकॉर्ड करने के बाद पुलिस मामले की जांच में जुटी है.



QAM आयोजन संस्था ने किया किनारा


नारों वाला विवादित वीडियो सामने आने के बाद QAM आयोजन संस्था ने एक बयान जारी किया है. इस बयान में कहा गया है- 'हम अपने को इससे पूरी तरह अलग करते हैं और कड़े शब्दों में कट्टरपंथी नारे लगाने वालों की निंदा करते हैं. साथ ही आयोजन के दौरान भारत की अखंडता के खिलाफ किसी भी तरह के नारे लगाए जाने की भी हम निंदा करते हैं.'