शिवसेना ने अरविंद केजरीवाल के शिक्षा, स्वास्थ्य और सार्वजनिक सुविधाओं के क्षेत्र में कामो की सराहना की


शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की तारीफ करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा. सामना ने अपने संपादकीय ने चुनाव के दौरान हिंदू-मुस्लिम और बटला हाउस जैसे मुद्दों को उठाने के लिए बीजेपी और पीएम मोदी को आड़े हाथों लिया, जबकि केजरीवाल को काम के आधार पर वोट मांगने की तारीफ की.


शिवसेना ने लिखा कि महाराष्ट्र और झारखंड में हारने के बाद नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने दिल्ली में सारे प्रयास किए. अगर वे दिल्ली जीतना चाहते हैं तो कुछ भी गलत नहीं है, लेकिन बीजेपी के सभी सांसदों और पूरे मोदी मंत्रिमंडल की फौज लगाने के बावजूद ऐसा लगता है कि केजरीवाल बाकी सभी पर भारी पड़ रहे हैं.


समाना ने दिल्ली के सरकारी स्कूलों और मोहल्ला क्लीनिकों की भी तारीफ की. आम आदमी पार्टी (आप) सरकार की तारीफ करते हुए शिवसेना ने लिखा, 'केजरीवाल के साथ मतभेद हो सकते हैं, लेकिन तथ्य यह है कि सीमित शक्ति और केंद्र द्वारा बनाई गई नियमित बाधाओं के बावजूद, शिक्षा, स्वास्थ्य और सार्वजनिक सुविधाओं के क्षेत्र में उनका काम सराहनीय है.'


लेख में यह भी लिखा कि, मोदी सरकार को केजरीवाल के विजन का इस्तेमाल करते हुए दूसरे राज्यों में केजरीवाल मॉडल का इस्तेमाल करना चाहिए था




 



मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए शिवसेना ने कहा कि केजरीवाल सरकार की तारीफ करने की बजाय जिस तरह से अभियान चलाया जा रहा है, वह केवल यह साबित करना है कि केजरीवाल झूठे हैं. अगर कोई राज्य अच्छा कर रहा है, तो इसकी सराहना करना नेता का कर्तव्य है, लेकिन बड़ी दिलदारी अब दिल्ली में नहीं है.'