सोने के दाम 7 साल के सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंच गए हैं, आखिरी बार जनवरी 2013 में यह स्तर देखा गया


 


अगर सोने की खरीदारी करनी है तो देर मत कीजिए। पहले ही 10 ग्राम सोने के भाव 44000 रुपये के पार पहुंच चुके हैं और इसके 45000 के पार जाने की पूरी आशंका है। कोरोना वायरस का असर अब पूरे तौर पर गोल्ड मार्केट पर नजर आ रहा है। इंटरनैशनल मार्केट में दाम में तेजी आने से दिल्ली में गोल्ड का दाम सोमवार को 953 रुपये चढ़कर 44,000 रुपये के पार चला गया। एक्सपर्ट्स के अनुसार, गोल्ड का अगला पड़ाव 45,000 रुपये प्रति 10 ग्राम का है। अभी जो परिस्थितियां बन रही हैं, उनमें अगर गोल्ड 45,000 के लेवल को पार कर नया रेकॉर्ड बना दे तो कोई बड़ी बात नहीं होगी।


 


45,000 रुपये के लेवल को भी तोड़ देगा गोल्ड!
पीपी जूलर्स के वाइस चेयरमैन पवन गुप्ता का कहना है कि जो हालात हैं, उनमें कोई हैरान करने वाली बात नहीं होगी कि गोल्ड 45,000 के लेवल पर जाने के बाद कुछ दिनों में इस लेवल को तोड़ भी दे। इंटरनैशनल मार्केट में गोल्ड 1,680 डालर प्रति औंस (32 ग्राम) पर पहुंच गया। इसके 1,700 डॉलर प्रति औंस तक पहुंचने की बातें कही जा रही हैं। अंदाजा लगाइए अगर गोल्ड के दाम 1700 डॉलर प्रति औंस बढ़ेंगे फिर उसी अनुपात में भारतीय मार्केट में गोल्ड के दाम का बढ़ना तय है।

7 साल में सबसे ऊंचे सोने के दाम
गोल्ड के दाम 7 साल के सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंच गए हैं। सोने का इतना ऊंचा लेवल आखिरी बार जनवरी 2013 में देखा गया था। इसके उलट कोरोना शेयर बाजार और कच्चा चेल बाजार पर नेगेटिव असर डाल रहा है। सोमवार को घरेलू शेयर बाजार में 2 पर्सेंट की गिरावट दर्ज की गई और कच्चा तेल भी 4 फीसदी से ज्यादा गिर चुका है।