पहले खुल सकता है शाहीन बाग का रास्ता! होली से समर्थन में 80 तो विरोध में 20 फीसदी प्रदर्शनकारी



शाहीन बाग में ढाई महीने से ज्यादा वक्त से बंद रास्ते के आखिर खुलने की आस जगी है। धरने पर बैठे 80 फीसदी प्रदर्शनकारी रास्ते को खाली करने पर सहमत बताए जाते हैं, जबकि 20 फीसदी अब भी इसे खाली न करने पर अड़े हैं। 
 





इलाके के बुद्धिजीवी और मस्जिद के इमाम ऐसे प्रदर्शनकारियों को रास्ता खाली करने के लिए मनाने में लगे हैं। इस मुद्दे पर धरना स्थल के पास कई बैठकें हो चुकी हैं। माना जा रहा है कि कई लाख लोगों की परेशानी को देखते हुए होली से पहले नोएडा-फरीदाबाद जाने वालों को यह रास्ता वापस मिल सकता है।




सीएए के विरोध में ढाई महीने से अधिक वक्त से रास्ता घेरकर धरना दे रहे प्रदर्शनकारी अब इसे खाली करने के लिए बैठकें कर रहे हैं। इन बैठकों में जिद पर अड़े 20 फीसदी प्रदर्शनकारियों को मनाने का काम शुरू हो गया है। 



प्रदर्शनकारियों का कहना है कि हमारी लड़ाई केंद्र सरकार से है, न कि आम लोगों से। शाहीन बाग का रास्ता बंद होने से हर दिन लाखों लोग प्रभावित हो रहे हैं। नोएडा जाने वाले लोगों को काफी लंबा रास्ता तय करके गंतव्य तक जाना पड़ रहा है। इससे पहले ओखला से कालिंदी कुंज के रास्ते को प्रदर्शनकारियों ने खोल दिया था। इससे लोगों को काफी सहूलियत मिली थी। 



उधर, पुलिस की भी ओर से भी प्रदर्शनकारियों को मनाने के प्रयास जारी हैं। पुलिस ने इलाके में धारा 144 भी लगाई है।