सैनिटाइजर के निर्यात पर मोदी सरकार ने रोक लगी ,राहुल गांधी निर्यात को लेकर सरकार पर कर चुके हैं हमला


केंद्र सरकार ने महामारी कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए वेंटिलेटर, अन्य आईसीयू उपकरण और सैनिटाइजर के निर्यात पर रोक लगा दी है. वाणिज्य मंत्रालय ने इसे लेकर मंगलवार को एक आदेश जारी किया है. इससे पहले 19 मार्च को सरकार ने मास्क बनाने के लिए उपयोग किए जाने वाले सभी सर्जिकल, डिस्पोजेबल मास्क के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया था.


बता दें कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने इसे लेकर सरकार पर सोमवार को आरोप भी लगाया था. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर आरोप लगाया था कि आदरणीय प्रधानमंत्री जी, विश्व स्वास्थ्य संगठन की सलाह पर वेंटिलेटर, सर्जिकल मास्क का पर्याप्त स्टॉक रखने के विपरीत भारत सरकार ने 19 मार्च तक सभी चीजों के निर्यात की अनुमति क्यों दी? राहुल ने सवाल किया था कि ये खिलवाड़ किन ताकतों की शह पर हुआ और क्या ये आपराधिक साजिश नहीं है?


हालांकि राहुल गांधी के आरोप से पहले ही सरकार ने 18 मार्च को संसद में साफ कर दिया था कि वो चीन को कौन-कौन से चिकित्सा उपकरण के निर्यात पर रोक लगाई. सरकार की ओर से संसद में कहा गया था कि सैनिटाइजर और वेंटिलेटर के निर्यात पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी गई है.


31 जनवरी को जारी हुआ था नोटिफिकेशन


 मास्क संबंधी जरूरी सुविधाओं के निर्यात पर जनवरी में ही बैन लगा दिया गया था. सरकारी सूत्रों के मुताबिक, मेडिकल से जुड़ी जरूरी सुविधाओं के निर्यात पर 31 जनवरी 2020 को ही बैन लगा दिया गया था. इसको लेकर 31 जनवरी का एक नोटिफिकेशन भी जारी किया गया है.


 देश में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा देखने को मिल रहा है. भारत में अब तक कोरोना वायरस के 530 से ज्यादा मरीज सामने आ चुके हैं. इसके अलावा 10 लोगों की भारत में कोरोना वायरस के कारण मौत भी हो चुकी है.