प्रदूषण पर वार करने के लिए सरकार तैयार-पर्यावरण मंत्री

दिल्ली सरकार के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि सरकार वायु प्रदूषण खत्म करने के लिए बड़े स्तर पर एक्शन प्लान तैयार कर रही है। साथ ही इसके लिए जनता के सहयोग से आंदोलन खड़ा किया जाएगा, जिसमें करीब बीस काम शामिल होंगे। गोपाल राय बृहस्पतिवार को दिल्ली सचिवालय में वायु प्रदूषण पर आयोजित राउंड टेबल कांफ्रेंस में बोल रहे थे। उन्होंने बताया कि कांफ्रेंस में मिले सुझावों पर तैयार रिपोर्ट मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को सौंपी जाएगी। इसके आधार पर सरकार जल्द ही एक्शन प्लान बनाएगी।
 

गोपाल राय के मुताबिक, अगले पांच साल में प्रदूषण का स्तर एक तिहाई कम करना है। राउंड टेबल कांफ्रेंस में विशेषज्ञों के साथ इसी मसले पर चर्चा हुई। विशेषज्ञों का मानना है कि दिल्ली के वायु प्रदूषण में वाहन, धूल, बॉयोमास व उद्योगों का बड़ा रोल है। सरकार को सबसे पहले इन्हीं पर काम करना चाहिए।

गोपाल राय के मुताबिक, आईआईटी, कानपुर और वाशिंगटन यूनिवर्सिटी के विशेषज्ञ मानते हैं कि दिल्ली का प्रदूषण सिर्फ दिल्ली का मसला नहीं है। मसलन, बायोमॉस से गर्मी में हवा कम प्रदूषित होती है, जबकि सर्दियों में इसका हिस्सा बढ़ जाता है। यह दस से बढ़कर तीस फीसदी तक हो जाता है। कोल प्लांट की भी यही स्थिति है। यह हवा के रुख पर निर्भर करता है।

पड़ोसी राज्यों में जलने वाली पराली भी हवा खराब करती है। विशेषज्ञों का कहना था कि देश अलग-अलग एयर शेड में बंटा है। यह हवा की गुणवत्ता पर प्रभाव डालता है। अगर पंजाब में कोई गतिविधि होती है तो उस एयर शेड के एरिया में उसका असर होता है। ऐसे में प्रदेश विशेष की कोई कमेटी बनाने की जगह एयर शेड के हिसाब से एक्शन कमेटी बननी चाहिए।

साल भर जागरूकता अभियान चलाने का सुझाव
गोपाल राय के मुताबिक, केंद्र व राज्य सरकार को मिला कर दिल्ली में 40 एयर क्वालिटी मानिटरिंग सेंटर है। वहीं, 13 हॉट स्पॉट की पहचान की गई थी, जहां के लिए संयुक्त कार्ययोजना बनाकर प्रदूषण कम किया गया। सुझाव है कि 13 की जगह सभी 40 मॉनिटरिंग सेंटर पर एक्शन प्लान बनना चाहिए। यह सिर्फ ठंड के लिए नहीं, साल भर के लिए हो। विशेषज्ञों ने निर्माण कार्य का चार्ट बनाकर साल भर जागरूकता अभियान चलाने का सुझाव दिया, जिसे धूल को रोका जा सके। 
 


लास्ट माइल कनेक्टिविटी पर जोर



गोपाल राय ने बताया कि विशेषज्ञों ने लास्ट माइल कनेक्टिविटी पर फोकस करने का सुझाव दिया है। वहीं, सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था की मजबूती पर भी चर्चा हुई। ई-वाहनों को बढ़ावा देने का सुझाव भी आया है। इन सबके सहारे वाहनों से होने वाले प्रदूषण को रोका जा सकेगा।

जन आंदोलन से प्रदूषण कम करने में मिलेगी मदद
गोपाल राय ने कहा कि वायु प्रदूषण को जन आंदोलन बनाने के लिए विशेषज्ञों से सुझाव ले रहे हैं। अभी सरकार प्लान कर रही है कि वह 20 काम कौन से हैं, जिसे दिल्ली का एक बच्चा भी उसमें से एक काम कर सकता है, ताकि प्रदूषण को कम करने में उसका भी योगदान हो सके। इसके लिए एक जन चार्टर तैयार किया जाएगा। इससे दिल्ली के दो करोड़ लोगों को मुहिम से जोड़ा जा सकेगा।

ग्रीन दिल्ली मुहिम शुरू करेगी सरकार
गोपाल राय ने बताया कि सरकार ग्रीन दिल्ली मुहिम शुरू करेगी। पांच साल में दिल्ली में दो करोड़ पौधे लगाए जाएंगे। इस साल 40 लाख पौधे लगाने का लक्ष्य रखा गया है। 40 लाख पौधे लगाने के लिए एक्शन प्लान बनाने का काम अभी से शुरू कर देंगे। जिन विभागों के पास अपनी जमीन है, उनके लिए कोआर्डिनेशन टीम बनाने के लिए शुक्रवार को बैठक बुलाई है। इसमें ग्रीन दिल्ली कैंपेन लांच करने के लिए योजना बनेगी।